श्री राम धुन में मन तू जब तक मगन ना होगा भजन लिरिक्स

श्री राम धुन में मन तू,
जब तक मगन ना होगा,
भव जाल छूटने का,
तब तक जतन ना होगा।।



व्यापार धन कमाकर,

तू लाख साज सजले,
होगा सुखी ना तब तक,
होगा सुखी ना तब तक,
संतोष धन ना होगा।

श्री राम धुन मे मन तू,
जब तक मगन ना होगा,
भव जाल छूटने का,
तब तक जतन ना होगा।।



तप यज्ञ होम पूजा,

व्रत और नैम कर ले,
सब व्यर्थ है जो मुख से,
सब व्यर्थ है जो मुख से,
हरी का भजन ना होगा।

श्री राम धुन मे मन तू,
जब तक मगन ना होगा,
भव जाल छूटने का,
तब तक जतन ना होगा।।



संसार की घटा से,

क्या प्यास बुझ सकेगी,
प्यासे ह्रदय को जब तक,
प्यासे ह्रदय को जब तक,
तेरा ना धन मिलेगा।

श्री राम धुन मे मन तू,
जब तक मगन ना होगा,
भव जाल छूटने का,
तब तक जतन ना होगा।।

Singer : Santosh Upadhyay


You May Also Like  सारे गाँव से दूध मंगा कर पिंडी को नहला दो लिरिक्स | Saare Gaon Se Doodh Manga Kar Pindi Ko Nehla Do Lyrics
close